Thursday, February 29, 2024
spot_img
HomeDiseases and Treatmentमधुमेह के लक्षण और उपचार(How to Detect the Early Signs and Get...

मधुमेह के लक्षण और उपचार(How to Detect the Early Signs and Get Treatment)

मधुमेह के लक्षण और उपचार

मधुमेह के लक्षण और उपचार डायबिटीज यानि मधुमेह एक ज़माने में luxurious लाइफ जीने वाले लोगों की बीमारी हुआ करती थी लेकिन अब ये बीमारी एक मजदुर एक किसान से लेकर बच्चों तक को अपनी चपेट में ले रही है। 

मधुमेह के मधुमेह के लक्षण और उपचार

मधुमेह के लक्षण

मधुमेह के लक्षण पुरुष

आज डायबिटीज के first एपिसोड में हम डायबिटीज से related ऐसे कुछ scientific facts discuss करेंगे। जिनकी मदद से डायबिटीज को कण्ट्रोल किया जा सकता है और अगर आपकी डायबिटीज initial stage पर है तो इसे  काफी हद तक reverse भी किया जा सकता है। इसलिए एपिसोड के साथ जुड़े रहिये।

Online Ayurvedic Consultation
मधुमेह के लक्षण और उपचार

डायबिटीज के patient का सबसे पहला सवाल ये होता है कि क्या डायबिटीज को जड़ से खत्म किया जा सकता है और क्या बिना medication के naturally मै डायबिटीज से मुक्ति पा सकता हूँ या नहीं ?

मधुमेह के लक्षण हिंदी में

पहले तो ये बात करते है कि डायबिटीज क्यों होता है। अष्टांग हृदयम ग्रथ के दसवे अध्याय प्रमेह निदान के पहले दूसरे और तीसरे श्लोक के अनुसार जो जो आहार विहार और क्रियाएं,  मेदधातु, मूत्र और कफ को बढ़ाने वाले होते है वो प्रमेह का कारण बनते है। जब बात डायबिटीज को जड़ से खत्म करने की आती है तो इसका practical answer यह है कि डायबिटीज की कंडीशन सभी patients के लिए एक जैसी नहीं होती है patient to patient यह vary करती है। जैसे अगर कोई patient टाइप 1 डायबिटीज से पीड़ित से तो इसे reverse करने में difficulty ज्यादा रहती है। टाइप 2 डायबिटीज को healthy lifestyle follow करके reverse किया जा सकता है और gestational डायबिटीज pregnant ladies में एक temporary condition होती है। जो डिलीवरी के बाद usually खत्म हो जाती है। जब बात medication की आती है तो डायबिटीज के symptoms की severity को ध्यान में रखते हुए patient को medicines दी जाती है और बहुत से पेशेंट में mild symptoms होने के कारण healthy diet और healthy lifestyle को follow करके इसे reverse किया जा सकता है।

मधुमेह के लक्षण हिंदी में

Patient का दूसरा सवाल यह रहता है कि डायबिटीज के first common symptoms क्या रहते है ?

तो डायबिटीज के early symptoms में बार बार urine pass करने के लिए जाना, बार बार भूख या प्यास लगना, धुँधला दिखाई देना, घावों का जल्दी न भरना, हमेशा थकान रहना, unexplained weight loss, हाथों और पैरों में झनझनाहट और सुन्न होना देखा जाता है।

प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षण

Patient का अगला सवाल यह रहता है कि डायबिटीज होने पर मुझे अपनी डाइट में कौन से food products शामिल करने चाहिए और कौन से food products avoid करने चाहिए । 

Online Ayurvedic Consultation
मधुमेह के लक्षण और उपचार

तो डायबिटीज के रोगी को अपने डाइट प्लान में healthy food items को moderate amount में लेना चाहिए और नियमित भोजन करना चाहिए। कुछ सब्जियां जैसे पत्तागोभी, गाजर, ब्रोकली, पालक, प्याज, लहसुन, खीरा, टमाटर, मूली और चुकंदर, और खट्टे फल मधुमेह रोगियों के लिए बहुत अच्छे होते हैं। ब्लड शुगर लेवल को कण्ट्रोल करने के लिए आप साबुत अनाज, स्प्राउट्स, छोले और हर्बल सप्लीमेंट जैसे आंवला, दालचीनी, हल्दी, मेथी, नीम, ग्रीन टी और एलोवेरा का भी सेवन कर सकते हैं। sugary, packaged एंड processed food products , fried items को avoid करना चाहिए। 

मधुमेह के लक्षण हिंदी में

आयुर्वेद में treatment लेते हुए अक्सर patients ये सवाल पूछते है कि कौन सी औषधियों को लेने से हम डायबिटीज को control या ख़त्म कर सकते है।

तो आयुर्वेद में डायबिटीज का treatment औषधि और पंचकर्म पद्धति से किया जाता है। पंचकर्म में किये जाने वाले कर्म insulin senstivity को बढ़ाने , insulin resistance को कम करने और insulin secretion को boost करके बीटा सेल्स को regenerate करने का काम करते हैं। इसके अलावा आयुर्वेद में डायबिटीज के उपचार में फाइबर से भरपूर फलों, सब्जियों, जीरा, धनिया, हल्दी और इलायची जैसे मसाले, दिन भर में small meals लेने की सलाह दी जाती है। शुगर क्रेविंग को कम करने के लिए gurmar जैसी जड़ी-बूटियों का सेवन, मेथी से blood sugar level को regulate करने और नीम और तुलसी की मदद से शरीर में insulin को manage करने के लिए इन सभी औषधियों से तैयार दवाइयां patient को दी जाती है।

Online Ayurvedic Consultation
मधुमेह के लक्षण और उपचार

डायबिटीज के patients को हम medicines के साथ साथ योग करने की भी सलाह देते है। योग डायबिटीज के कारणों को कण्ट्रोल करने में मदद करता है। तनाव और मोटापा जो डायबिटीज का कारण बन सकते हैं। योग की मदद से इनसे बचा जा सकता है। meditation और regular yoga pratice से तनाव कम होता है और शरीर में चर्बी जमा होने की गति धीमी हो जाती है। प्राणायाम, सूर्य नमस्कार, बालासन, मण्डूकासन, वज्रासन, सर्वांगासन, हलासन, धनुरासन कुछ ऐसे आसन हैं जो बहुत effective होते हैं।

मधुमेह के लक्षण हिंदी में

Non Diabetic patients अक्सर ये सवाल पूछते है की ज्यादा शुगर consume करने से मुझे डायबिटीज हो सकती है ?

तो unfortunately इसका answer है हां। शुगर के ज्यादा consumption से डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। क्यूंकि शुगर एक कार्बोहायड्रेट होता है और   बहुत अधिक कार्बोहायड्रेट लेने से blood sugar level बढ़ सकता है जिससे type 2 डायबिटीज होने के chances रहते है। शुगर intake डायबिटीज जैसी puzzle का एक piece होता है इसके अलावा overall डाइट , lifestyle , genetic बहुत से ऐसे factors है जो इस puzzle को पूरा करने में हेल्प करते है।

स्वास्थ्य से जुडी नयी नयी जानकारी के लिए KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

BOOK ONLINE CONSULTATION
Online Ayurvedic Doctor Consultation

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Book Online Consultation