Constipation Treatment in Ayurveda

0
110
Constipation Treatment in Hindi
Constipation Treatment in Hindi

Constipation Treatment in Hindi आज की असंतुलित जीवनशैली और अनियमित खानपान का सबसे ज्यादा प्रभाव हमारे पेट पर पड़ता है और पेट के अधिकांश रोगों की उत्पत्ति का मूल कारण कब्ज (CONSTIPATION) है . आतों से मल (STOOL) बिल्कुल न निकले , कम और कठिनाई से निकले या बंधा हुआ निकले तो समझ लेना चाहिए कि व्यक्ति कब्ज रोग से पीड़ित है। सही समय पर सही आहार न लेने और फास्ट या जंक फूड के सेवन से कब्ज की समस्या पैदा होती हैं। पेट में गैस बनना, दर्द और भारीपन, बदहजमी, पैर की पिंडलियों में दर्द और आलस्य सब कब्ज के ही लक्षण हैं। अगर इनमें से किसी समस्या से आप परेशान हैं तो यह Article आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

ध्यान रखें कि अधिकांश रोगों की जड़ कब्ज ही होता है , इसके गलत उपचार से लाभ के बजाए हानि की संभावनाएं अधिक होती है . जैसे – अधिकतर लोग बड़ी आँत की सफाई के लिए विरेचक दवाइयों यानी PURGING MEDICINE का प्रयोग करते है . यह दवाइयां या चूर्ण आंत की  मांसपेशियों को कमजोर बना देती है . मगर कब्ज पीछा तब भी नहीं छोड़ता है

Constipation Treatment in Ayurveda
Source: avedaayur.com

Premature Aging Remedies

कब्ज नहीं रहे इसके लिए पहला काम है सुबह जल्दी उठकर सबसे पहले एक या दो गिलास पानी पीना इसे उषापान भी कहते है . इसके बाद कुछ देर टहलना और शौच जाना तथा समय पर पौष्टिक और फाइबर युक्त भोजन करना और उसे बहुत चबा चबाकर खाना खाने से कब्ज कभी नहीं होगा।

इसके अलावा कुछ छोटी छोटी बातों का ध्यान रखना बहुत जरुरी है जैसे :

  • भोजन में हरी और फाइबरयुक्त सब्जियों को ज्यादा शामिल करें। दोपहर के भोजन में हरी सब्जी, सलाद और दही या छाछ जरूर लें।
  • खाने के लिए गेहूं के बारीक आटे के बदले मोटा आटा (सूजी के आकार का) पिसवाएं तथा दो-तीन घंटा पहले गुंथवाकर रोटी बनवाएं .
  • इससे रेशे की मात्रा छः गुना , विटामिन-बी चार गुना तथा खनिज पदार्थ की मात्रा चार गुना से भी ज्यादा मिलती है .
  • इससे शरीर की सफाई एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता पैदा करने में सहयोग मिलता है और कब्ज नहीं होता है ।
  • दिन भर में कम से कम एक बार सीजनल फलों का सेवन अवश्य करें।
  • रात्रि का भोजन सूर्यास्त से पहले हो तो ज्यादा अच्छा लेकिन बाद में भी कर रहे हों तो सोने से कम से कम दो घंटे पहले भोजन अवश्य कर लें।
  • सोने से पहले गुनगुना दूध पिएं।
  • दिन भर में दस बाहर गिलास पानी अवश्य पिएं।
Online Ayurvedic Consultation
Constipation Treatment in Hindi

Constipation Treatment in Ayurveda

Online Ayurvedic Consultation
Constipation Treatment in Hindi

कब्ज हो जाये तो उसे दूर करने के तीन अचूक उपाय (Constipation Treatment in Hindi)

  • एक चम्मच त्रिफला लगभग 20 से 25 ग्राम को रात में एक गिलास पानी में भिगोकर रख दीजिये।
  • सुबह खाली पेट शौच जाने से पहले उस पानी को छानकर पीने से कब्ज में काफी फायदा होगा।
  • 8 अंजीर को उबालकर उसका काढ़ा बना ले . रात को सोते समय यह काढ़ा पीयें।
  • तीन चार दिनों तक इसका प्रयोग लगातार करने से कब्ज जड़ से खत्म हो जायेगा .
  • अगर दस्त ज्यादा आने लगे तो ये पीना बंद कर देना चाहिए .

Constipation Treatment in Ayurveda

  • हरड को घी में अच्छे से भून ले और उसमे उतना ही काला नमक मिलाकर बारीक पीस ले।
  • इस चूर्ण  को रात को सोते समय एक छोटा
    चम्मच गुनगुने पानी के साथ ले .
  • सुबह उठकर पेट एकदम से साफ़ हो जाएगा।  ऐसा हफ्ते में दो बार करते रहें , कब्ज हमेशा के लिए दूर हो जाएगा .
  • इसके अलावा नियमित योगासन करें।
  • जिसमें पश्चिमोत्तानासन, वज्रासन, उत्तानपादासन, पवनमुक्तासन आदि कब्ज को दूर करने में बड़े सहायक है।

Constipation Treatment in Hindi

अधिकांश रोगों की वजह होता है कब्ज का संबंध उसके संचार से होता है। कब्ज एक सामान्य समस्या होती है जो बच्चों से लेकर वयस्कों तक किसी को भी हो सकती है। इसमें पाचन तंत्र को दोषित करने वाले कारकों के कारण पेट में अधिक गैस बनती है जो दर्द, बुखार, त्वचा के लाल होने और सामान्य संतुलन के अस्तित्व को खतरे में डालती है।
कई विशेषज्ञ इस मान्यता से सहमत हैं कि अधिकांश रोगों की वजह होता है कब्ज की समस्या। विशेषज्ञों के अनुसार, कब्ज से जुड़ी समस्याएं सबसे आम हैं और इन्हें नज़रअंदाज़ न करने से इन्हें बढ़ते हुए रोगों का कारण बनने का खतरा होता है। यह रोग आपके शरीर के अन्य भागों में भी संक्रमण और संकट को बढ़ावा देता है, जिससे आपके शरीर के विभिन्न अंगों के बीच संतुलन टूट सकता है।
इसलिए, कब्ज की समस्या को समय रहते ठीक करना बहुत जरूरी है। इस समस्या को नज़रअंदाज़ न करें और अपने डॉक्टर से पर अपने डॉक्टर से परामर्श करना बहुत जरूरी है क्योंकि कब्ज की समस्या संभवतः आपके शरीर के अन्य समस्याओं के लिए जटिलताओं का कारण बन सकती है। जिन लोगों को लंबे समय तक कब्ज की समस्या होती है, उन्हें अपने डॉक्टर से जांच कराना चाहिए।
डॉक्टर आपको कब्ज की समस्या का मूल कारण ढूंढने में मदद कर सकते हैं और उपचार के लिए आपकी मदद कर सकते हैं। वे आपके लिए उपयुक्त दवाएं या आहार परिवर्तन से संबंधित सलाह दे सकते हैं। आपके डॉक्टर की सलाह अनुसार आप एक स्वस्थ और संतुलित जीवन जी सकते हैं और अन्य बीमारियों से बच सकते हैं।

स्वास्थ्य से जुडी नयी नयी जानकारी के लिए KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

कब्ज से परेशान? अब चिंता मत कीजिए, Kapeefit से संपर्क करें और अपनी समस्या का समाधान पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here