Thursday, February 29, 2024
spot_img
HomeFitness TipsEasy Tips to Control Diabetes in Hindi

Easy Tips to Control Diabetes in Hindi

Easy Tips to Control Diabetes in Hindi

डायबिटीज को कण्ट्रोल करने के आसान घरेलु उपाय

Easy Tips to Control Diabetes in Hindi इस आर्टिकल में हम बात करेंगे एक ऐसी गंभीर बीमारी के लक्षणों के बारे में जो वैश्विक स्तर पर बहुत तेज़ी से फ़ैल रही है। जिसका नाम है – मधुमेह यानी DIABETES . वैसे तो डायबिटीज को LUXERIOUS LIFE जीने वाले लोगों की बीमारी कहा जाता था लेकिन अब यह ऐसी COMMON बीमारी हो गयी है जो साधारण जीवन जीने वाले लोगों को भी अपनी चपेट में ले रही है। AIIMS द्वारा कराये गए सर्वे के अनुसार 7 % यानि ढाई करोड़ से अधिक लोग इस समय डायबिटीज से ग्रसित है।डायबिटीज को कण्ट्रोल करने के आसान घरेलु उपाय

अगर WHO के हिसाब से देखे तो आने वाले 2 दशकों में यह संख्या दुगनी हो जायेगी। Diabetic Self-Care Foundation के हिसाब से डायबिटीज बढ़ने का MAIN कारण लोगों के खानेपीने की आदतों में बदलाव और आज कल के ZERO PHYSICAL LABOR वाले प्रोफेशन की वजह से है। National Medical Educational  Research Forum के हिसाब से जागरूकता और साक्षरता की कमी के कारण डायबिटीज एक COMPLICATED DISEASE बनती जा रही है क्यूंकि बहुत से लोग ये जान ही नहीं पाते है कि वे डायबिटीज से ग्रसित हो चुके है। इसलिए हमे इसके TREATMENT से पहले इसके SYMPTOMS के बारे में जानना जरुरी है।डायबिटीज को कण्ट्रोल करने के आसान घरेलु उपाय

Online Ayurvedic Consultation
Easy Tips to Control Diabetes in Hindi

डायबिटीज होने के प्रमुख लक्षण | Major Symptoms of Diabetes

अगर आपको

  • प्यास ज्यादा लगती है और मुँह सूखता है ,
  • भूख ज्यादा लगती है और थकावट होती है ,
  • ज्यादा पेशाब आती है और जहाँ पेशाब करतें है वहां चीटियां इक्कठा हो जाती है ,जख्म देरी से भरता है
  • सिर में दर्द या भारीपन रहता है  आंखों की रोशनी कम होती जा रही है
  • शारीरिक कमज़ोरी या थकावट रहती है
  • अचानक वजन कम हो रहा है
  • चक्कर आते है
  • गम्भीर हिचकी आती है ,
  • पैरों में जलन होती है
  • झनझनाहट रहती है
  • तलुओं में जलन महसूस होती है
  • चिड़चिड़ापन महसूस होना
अगर आपको भी ये सभी लक्षण महसूस हो रहे हों तो यह DIABETES की निशानी हो सकते है।

डायबिटीज से होने वाले खतरे | Dangers for Diabetic Patients

डायबिटीज हमारे शरीर के INTERNAL ORGAN को भी नुकसान पहुंचाता है जैसे KIDNEY DISORDERS , अंधापन  , हार्ट अटैक , gastroparesis आदि  इसके साथ साथ ज्यादा चिंता , मोह , लालच , तनाव लेने वाले व्यक्ति भी डायबिटीज की चपेट में आ जाते है।डायबिटीज की बीमारी का सबसे बड़ा कारण अनियमित खानपान एवं अनियमित जीवनशैली को माना गया है और जो व्यक्ति समय रहते इसे नहीं सुधारते है और लापरवाही करते है उनके लिए यह रोग ठीक न होने वाली स्थिति में पहुंच जाता है और कभी पीछा नहीं छोड़ता है।

Asthma Treatment That Can Help You Breathe Easier

डायबिटीज नियंत्रण में कैसे रखें | Easy Tips for Controlling Diabetes in Hindi

Online Ayurvedic Consultation
Easy Tips to Control Diabetes in Hindi

डायबिटीज को नियंत्रित करने का सबसे सरल और सुरक्षित तरीका है – नियंत्रित उचित आहार विहार का सेवन । SCIENTIFICALLY भी यह PROOF हो चूका है कि जिनके शरीर में इन्सुलिन का बनना बंद नहीं हुआ है उनका उपचार आहार विहार के नियंत्रण से ही संभव है। ध्यान रखने योग्य बात यह है कि मधुमेह के लक्षण मालूम होते ही Urine तथा Blood की जाँच कराये जिससे आपको पता चल सके कि अगर URINE में Sugar आ रही है तो ब्लड शुगर , सामान्य से अधिक तो नहीं है। सुबह खाली पेट BLOOD में SUGAR की मात्रा 80 से 120 mg के बीच होने पर सामान्यतः मनुष्य स्वस्थ होता है।120 से अधिक तथा 140 से कम होने पर मधुमेह की प्राइमरी स्टेज होती है। लेकिन यह मात्रा 140 से अधिक होने पर समझ ले कि आप मधुमेह से ग्रस्त हैं। भोजन करने के दो घंटे के बाद की गयी जाँच में BLOOD SUGAR 120 mg से कम होने पर मनुष्य स्वस्थ , 140 या इससे कम होने पर मधुमेह की प्राइमरी स्टेज लेकिन 140 से अधिक होने पर इसे रोग ग्रस्त मन जाता है। 40 वर्ष से अधिक आयु वाले स्त्री-पुरुष , विशेषकर जिनका वजन ज्यादा है उन लोगों को 2 – 3 महीने के अंदर एक बार यूरिन और ब्लड टेस्ट कराते रहना चाहिये , क्योंकि यह रोग धीरे-धीरे पनपता है और SEVERE STAGE धारण करने से पहले इसका ठीक से पता नहीं चलता।डायबिटीज में BALANCED DIET और STRICT DIET FOLLOW करना MEDICINE लेने से ज्यादा BENEFICIAL होता है। लेकिन इसके स्थान पर UNBALANCED डाइट और लापरवाही से यह बीमारी गंभीर रूप ले लेती है। सभी जगह फैली इस बीमारी में सबसे ध्यान देने योग्य बात यह है की इसे कैसे CONTROL या खत्म किया जाये। मधुमेह की MEDICINE लेने के साथ साथ हमे कुछ पथ्य और अप्थ्यों को भी ध्यान में रखना जरुरी है।

Online Ayurvedic Consultation

डायबिटीज रोगियों के लिए कुछ ख़ास टिप्स | Essential Tips to Diabetic Patients to control Diabetes in Hindi

डायबिटीज के रोगी को एक healthy routine को STRICTLY follow करना चाहिए।

  • जिसमे रोगी को सुबह सबसे पहले वाक पर जाना चाहिए और उसके बाद घर में जमा हुआ दही थोड़ा जलजीरा तथा नमक मिलाकर पीना चाहिए ।
  • इसके साथ मेथी दाने का पानी , जाम्बुलिन, मूँग-मोठ आदि का प्रयोग भी लाभकारी है । दही के अलावा चाय-दूध कुछ न ले तथा इसके 3 – 4 घंटे पश्चात् ही भोजन करे।
  • भोजन में जौ चने के आटे की रोटी , हरी साग सब्जी , सलाद और छाछ या मट्ठा का सेवन करे। भोजन करते हुए छाछ को घूँट-घूँट करके पीते रहे। भोजन के बाद फल खा सकते है। जौ चने की रोटी स्वादिष्ट , ENERGETIC और WEIGHT REDUCE करने में भी मदद करती है। रात का भोजन शाम 7 बजे तक कर लेना चाहिए।
  • रोज़ निश्चित समय पर भोजन कर लेने से ब्लड शुगर लेवल नार्मल रहता है।
  • डायबिटीज के रोगी को भोजन में मीठे पदार्थ चीनी शक्कर, मीठे फल, मीठी चाय, मीठे पेय, मीठा दूध, चावल, आलू, सकरकंद, तले चिकने पदार्थ, घी, मक्खन, सूखे मेवे, गरिष्ठ पदार्थ आदि का सेवन बंद कर देना चाहिए। मीठा करने हेतु चीनी के स्थान पर सेकरीन की गोली का प्रयोग किया जा सकता है ।
  • आहार में FAT , CHOLESTROL , PROTEIN , CARBOHYDRATE युक्त पदार्थों, जैसे दूध, घी, तेल, सूखे मेवे, फल, अनाज, दाल आदि प्रयोग कम मात्रा में करना चाहिए। FIBRE RICH FOOD PRODUCTS जैसे हरी शाक-सब्जी, सलाद, आटे का चोकर, मौसमी फल, अंकुरित अन्न, समूची दाल आदि का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए।
  • दिनचर्या में भी थोड़ा परिवर्तन करके डायबिटीज से निजात पाने में मदद मिलती है।
  • सूर्योदय से पहले WALK के लिये जाना , तेल-मालिश , योगासन , व्यायाम करना , दिन में भी चलना फिरना हितकारी होता है।
  • अगर आप योगासन करना चाहते है तो सूर्य नमस्कार, भुजङ्गासन, शलभासन, योगमुद्रा, धनुरासन, सर्वाङ्गासनादि और अन्त में शवासन करे।
  • योगासन-व्यायाम का अभ्यास अधिक मात्रा में न करके अपनी शारीरिक क्षमता के अनुसार करे।डायबिटीज के रोगी को अधिक समय तक बैठे रहना या आराम नहीं करना चाहिए। भोजन के बाद दिन में सोना नहीं चाहिए।
  • मांसाहार , धूम्रपान तथा शराब का प्रयोग बिलकुल नहीं करना चाहिए।
  • त्र मल के वेग को नहीं रोकना चाहिए।

हम उम्मीद करते है DIABETES के लक्षण और उससे सम्बंधित आहार विहार के बारे में सभी जानकारी आपको मिल गयी होगी। अगर आपका कोई सवाल रह गया हो तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। इस आर्टिकल को LIKE कीजिये , COMMENT कीजिये और नयी जानकारी के लिए KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

Easy Tips to Control Diabetes in Hindi

डायबिटीज को कण्ट्रोल करने के आसान घरेलु उपाय

BOOK ONLINE CONSULTATION
Online Ayurvedic Doctor Consultation

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Book Online Consultation