Wednesday, February 21, 2024
spot_img
HomeAyurvedic RemediesNasya Therapy Treatment And Benefits

Nasya Therapy Treatment And Benefits

Nasya Therapy Treatment And Benefits

Nasya Therapy Treatment And Benefits क्या अपने कभी नाक से औषधि लेने की बात करते सुना है? Hairfall, Memory Loss, Migraine जैसे Conditions में आयुर्वेदिक चिकिस्ता के अनुसार नाक के माध्यम से औषधि दी जाती है जिसे नस्य क्रिया कहते है। लेकिन इसको लेकर बहुत से लोगो के मन में अलग अलग तरह से प्रश्न उठते है। जैसे  

  • क्या नस्य क्रिया नाक से ड्रग्स लेने जैसी है?
  • क्या नस्य क्रिया के कोई साइड इफेक्ट्स है?
  • क्या नस्य daily कर सकते है?
  • जब मेडिसिन नाक से ली जाती है तो यह hair और मेमोरी loss पर कैसे असर करती है?

Nasya Therapy अगर आपका भी नस्य क्रिया से संबधित कोई प्रश्न है तो आप हमारे साथ शेयर कर सकते है।आज इस Article में हम नस्य क्या है,इसे कैसे किया जाता है,कब किया जाता है,कब नहीं किया जाता है,किस औषधि से करना चाहिए,कितने दिनों तक करना चाहिए जैसे सवालों पर चर्चा करेंगे। इसलिए Article के साथ अंत तक बने रहिये।Nasya Therapy Treatment And Benefits


Read MoreSpine Disorders Symptoms And Treatment


हमारे आयुर्वेदिक ग्रंथों में वर्णित दिनचर्या यानि daily regime to be followed to maintain health का stepwise scientific वर्णन है। इस दिनचर्या में brushing व अञ्जन के बाद वर्णित क्रिया है नस्य क्रिया। नस्य क्रिया एक आयुर्वेदिक चिकित्सा है, जो पंचकर्म उपचार में से एक है। इस उपचार में आयुर्वेदिक औषधि को नाक के माध्यम से शरीर में पहुंचाने का काम किया जाता है। नाक से दी गयी मेडिसिन nasal route से सीधे brain तक असर करती है। nasal mucus से absorb होकर olfactery nerve को stimulate करके brain के higher centres को stimulate करती है। जिससे endocrine & nervous system के कार्यों पर असर पड़ता है।Nasya Therapy Treatment And Benefits

नस्य क्रिया दो प्रकार की होती है 

पहली मर्श क्रिया इस क्रिया को किसी expert आयुर्वेदाचार्य की देख रेख में किया जाता है। 

दूसरी प्रतिमर्श नस्य क्रिया – इस क्रिया को एक 8 साल के बच्चे से लेकर 80 वर्ष का वृद्ध भी प्रतिदिन कर सकता है। यह क्रिया respiratory disorders, नाक , सिर , गर्दन व मुँह की बीमारयों से prevent करती है। 

Nasya Therapy नस्य क्रिया बीमारी के हिसाब से या व्यक्ति विशेष के लिए अलग अलग निर्धारित है। एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए प्रतिमर्श नस्य के 15 समय बताये गए है। जिनमे से मुख्य है भोजन के बाद , छींकने के बाद , dental cleaning के बाद , oil pulling , local massage करने के बाद , urination or stool pass करने के बाद , walking के बाद , सुबह उठने के बाद , शाम को घर वापिस आने के बाद। आयुर्वेद में ये समय स्वस्थ व्यक्ति के लिए सबसे उत्तम बताये गए है।

कोई गंभीर स्वास्थय समस्या होने पर डॉक्टर की सलाह के बाद ही नस्य करना चाहिए। कुछ condition जैसे heart attack, asthma attack के बाद नस्य क्रिया नहीं करनी चाहिए। प्रेगनेंसी के दौरान और पीरियड्स के दौरान नस्य नहीं करना चाहिए। इसके अलावा Infectious Diseases जैसे flu आदि में nasal medicine का use नहीं करना चाहिए।

नस्य क्रिया देसी घी, सरसों का तेल, तिल का तेल, नारियल का तेल, अणु तेल या फिर आयुर्वेदाचार्यों द्वारा प्रस्तावित औषध द्रव्यों के साथ करनी चाहिए।

पंचकर्म चिकित्सा के रूप में 7 दिन लगातार आयुर्वेदिक चिकित्सक की देखरेख में नस्य कर्म दिया जाता है। और daily regime के रूप में स्वास्थय को बेहतर रखने के लिए नस्य कर्म में 2-2 बूँद औषधि दोनों nostrils में डालना indicated है।Nasya Therapy

नस्य चिकित्सा बहुत से रोगों के उपचार में दी जाती है लेकिन मुख्य रूप से hairfall, migraine और memory loss में इस चिकित्सा का बहुत कारगर प्रभाव देखा जाता है। 

Hairfall का मुख्य कारण पित्त दोष व असंतुलित वात दोष होता है। पित्त दोष में imbalance या excess के कारण बालों का असमय झड़ना या सफ़ेद होना शुरू होता है। जिसके लिए आयुर्वेद के अनुसार रसायन चिकित्सा व नस्य चिकित्सा दी जाती है। अष्टांग हृदयम के सूत्रस्थान अध्याय 20/39 में स्पष्ट बताया गया है कि स्नेहन नस्य से बाल समय से पहले सफ़ेद नहीं होते है। और अष्टांग हृदयम के सूत्रस्थान अध्याय 20/29 के अनुसार नस्य चिकित्सा से थकान का नाश होता है, दृष्टि शक्ति बढ़ती है, दाँतों में स्थिरता आती है व वात दोष की शांति होती है।   

उम्मीद है नस्य थेरेपी से जुडी यह जानकारी आपको पसंद आयी होगी।Nasya Therapy

स्वास्थ्य से जुडी नयी नयी जानकारी के लिए KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

Nasya Therapy Treatment And Benefits

Nasya Therapy

BOOK ONLINE CONSULTATION
Online Ayurvedic Doctor Consultation

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Book Online Consultation