Wednesday, February 21, 2024
spot_img
HomeAyurvedic Remedies7 Benefits Of Shilajit

7 Benefits Of Shilajit

7 Benefits Of Shilajit

क्या आप अपने मस्तिष्क की efficiency को बढ़ाना चाहते हैं ?

7 Benefits Of Shilajit आज हम आपको आयुर्वेद की एक ऐसी बहुमूल्य औषधि के रहस्यमयी गुणों के बारे में बताएंगे जिसे हम लोग शिलाजीत के नाम से जानते है। और जिससे आपकी उपरोक्त सभी समस्याओं के साथ अन्य कई समस्याओं का समाधान बहुता आसानी से हो जायेगा। 

7 Benefits Of Shilajit शिलाजीत को आयुर्वेदिक इतिहास में हमेशा से ही रसायन औषधि के नाम से जाना जाता है, क्यूंकि इसके सेवन से सम्पूर्ण सेहत में सुधार आता है। शिलाजीत में 84 से अधिक मिनरल्स पाए जाते हैं। FULVIC ACID इसमें MAIN INGRIDIENT होता है। यह हमारे शरीर में मौजूद सातों धातुओं रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज़्ज़ा और शुक्र को NUTRITION PROVIDE कराता है। शिलाजीत हमारे शरीर के लिए एक natural health supplement की तरह काम करता है। 

BEST COOKING OIL FOR HEALTH & FITNESS

शिलाजीत को लेकर बहुत सारे misconception सुनने को मिलते है। जैसे ये केवल SEXUAL हेल्थ को improve करता है या इसका सेवन सिर्फ पुरुष कर सकते है। लेकिन ये सभी तथ्य बिलकुल गलत है। शिलाजीत का सेवन स्त्री पुरुष कोई भी कर सकता है और ये सेक्सुअल हेल्थ के साथ साथ bhaut सी बीमारियों के लिए रामबाण सिद्ध होता है।मिनरल डेफिशियेंसी में इसका प्रयोग बहुत लाभकारी होता है।

तो आईये जानते हैं शिलाजीत के 7 MIRACULOUS BENEFITS  के बारे में

1. दिमाग तेज करने में 

Online Ayurvedic Consultation
7 Benefits Of Shilajit

शिलाजीत का उपयोग मस्तिष्क की efficiency बढ़ाने में किया जाता है। शिलाजीत में मौजूद फुलविक एसिड एक एंटी ऑक्सीडेंट की तरह काम करता है जो स्मरण शक्ति बढ़ाता है , दिमाग को पोषण देता है , स्ट्रेस को कम करने में मदद करता है और concentration बढ़ाने में help करता है। यह alzimeher नामक बीमारी के लक्षणों को सुधारने में मदद करता है।

2. मधुमेह के लिए 

Online Ayurvedic Consultation
7 Benefits Of Shilajit

शिलाजीत का उपयोग मधुमेह को कण्ट्रोल करने में किया जाता है। ये ब्लड में ग्लूकोज के लेवल को कण्ट्रोल करने में मदद करता है। और इसके साथ साथ यह heart को मजबूत बनाता है और इम्यून सिस्टम को स्ट्रांग रखता है। और शरीर से थकान को कम करके एनर्जी provide करता है।  

3. प्रजनन क्षमता और टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में 

पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने के लिए शिलाजीत का उपयोग वर्षों से किया जा रहा है। शिलाजीत का सेवन करने से शुक्राणुओं की संख्या और गतिशीलता बढ़ती है और इस प्रकार यह गर्भधारण की संभावना को बढ़ाता है।

4. ANTI AGING के रूप में 

Online Ayurvedic Consultation
7 Benefits Of Shilajit

शिलाजीत उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को नियंत्रित करने में मदद करता है । इसमें फुल्विक एसिड पाया जाता है जिसमे एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है। ये हमारे शरीर में CELLS के DAMAGE  को कम करता है और FREE RADICALS के उत्पादन को भी कम करता है, फलस्वरूप मनुष्य की आयु बढ़ाने में सहायक है। 

5. वजन कम करने में 

शिलाजीत में वो सभी कंपोनेन्ट पाए जाते है को वजन कम करने में सहायक होते है। इसके नियमित सेवन से भूख को शांत करने में मदद मिलती है। यह शरीर में से LDL के लेवल को कम करता है और METABOLISM को बढ़ाता है। इस प्रकार यह शरीर को PROPER WEIGHT MAINTAIN रखने में सहायता करता है।

6. एनीमिया के इलाज में 

एनीमिया के प्राइमरी कारणों में आयरन की कमी प्रमुख है। यदि रक्त में पर्याप्त हीमोग्लोबिन नहीं पाया जाता है तो एनीमिया से पीड़ित होने की सम्भावना होती  हैं। शिलाजीत में आयरन bhaut अच्छी मात्रा में पाया जाता है। इसके सेवन से ब्लड में हीमोग्लोबिन का स्तर balance होता है। यह थकान, सिरदर्द, कमजोरी और दिल की अनियमित धड़कन जैसे लक्षणों को दूर करने में मदद कर सकता है।

7. आर्थराइटिस से बचाव में 

शिलाजीत में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-आर्थराइटिक गुण पाए जाते हैं जो गठिया के कारण होने वाले दर्द और सूजन से राहत प्रदान करने में मदद करते हैं। यह जोड़ों को मजबूत बनाये रखता है और जोड़ों में BLOOD FLOW को बढ़ाने में मदद करता है। 7 Benefits Of Shilajit

SOLVE BURNING PROBLEM 

शिलाजीत की तासीर गरम होती है इसलिए इसका सेवन गर्मियों में अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए। शिलाजीत LIQUID , कैप्सूल और वटी के रूप में मार्किट में उपलब्ध है। इसका सेवन निर्देशानुसार उचित मात्रा में करना चाहिए। अधिक मात्रा में इसका सेवन हानिकारक सिद्ध होता है। अगर आप शिलाजीत को LIQUID रूप में ले रहें है तो 3 से 4 बूँद दूध या पानी में घोल कर सेवन करें। या फिर इसके 1-1 कैप्सूल को आप दिन में 2 बार दूध के साथ ले सकते हैं।

वैसे तो शिलाजीत प्राकृतिक और सुरक्षित औषधि होती है , लेकिन इसका सेवन उचित मात्रा में किसी आयुर्वेदिक PRACTITIONER की देखरेख में करना चाहिए। शिलाजीत के आवश्यकता से अधिक सेवन से 

• शरीर में अत्यधिक गर्मी पैदा होना। 

• पैरों में जलन होना। 

• पेशाब में वृद्धि या कमी होना। 

• मतली, चक्कर आना, दिल की धड़कन बढ़ना, खुजली आदि समस्या देखने को मिलती हैं। इसलिए सावधानी पूर्वक इसका सेवन करना चाहिए।

स्वास्थ्य से जुडी नयी नयी जानकारी के लिए KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

BOOK ONLINE CONSULTATION
Online Ayurvedic Doctor Consultation

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Book Online Consultation