Ayurvedic Remedies

Spine Disorders Symptoms And Treatment

0
Spine Disorders Symptoms And Treatment

Spine Disorders Symptoms And Treatment

Spine Disorders Symptoms And Treatment आज के दौर में स्पाइनल डिसऑर्डर एक बहुत बड़ी समस्या है यह बढ़ती उम्र व बुढ़ापे में होने वाली एक आम बीमारी है. यह बीमारी रीढ़ की हड्डी में टूट-फूट या घिसाव या दबाब के कारण होती है |Spine Disorders

क्या आपके साथ भी ऐसा हो रहा है ,क्या आप भी स्पाइनल डिसऑर्डर से परेशान हैं यदि आप इस बीमारी से हमेशा के लिए छुटकारा पाना चाहते हो तो यह Article आपके लिए है !क्या आपके साथ भी ऐसा हो रहा है ,क्या आप भी स्पाइनल डिसऑर्डर से परेशान हैं यदि आप इस बीमारी से हमेशा के लिए छुटकारा पाना चाहते हो तो यह Article आपके लिए है !Spine Disorders Symptoms And Treatment


Read MoreNasya Therapy Treatment And Benefits


WHO के अनुसार हर साल, दुनिया भर में, 250,000 से 500,000 लोग रीढ़ की हड्डी की चोट से पीड़ित होते हैं।

रीढ़ की हड्डी की अधिकांश समस्याएं सड़क दुर्घटना, या अचानक से चोट लगने के कारण होती है !Spine Disorders

रीढ़ की हड्डी की चोट वाले लोगों की मृत्यु दर साधारण लोगों की तुलना में दो से पांच गुना अधिक होती है !

रीढ़ की हड्डी का दर्द वाकई बेहद परेशानी का सबब बन जाता है। इसकी हड्डियों की संरचना जितनी जटिल है उससे ज्यादा इसके शारीरिक महत्व भी होते हैं। रीढ़ की हड्डी में स्पाइनल कॉर्ड एवं नर्व्स सुरक्षित रहते हैं। इन नर्व्स का सीधा संबंध दिमाग से होता है। मस्तिष्क को सूचना आदान प्रदान करने में रीढ़ की हड्डियों की उपयोगिता जगजाहिर है। वैसे तो कई बेहद सामान्य कारण होते हैं जो इस तरह के दर्द का कारण बनते हैं, लेकिन रीढ़ की हड्डी का ट्यूमर बेहद जटिलता पैदा कर सकता है। रीढ़ के किसी भी हिस्से में हुई गांठ वैसे तो कोशिकाओं और ऊतकों का एक समूह होता है जो दिमाग से सीधा संबंध वाली तरंगों के वेग को रोकने का काम करता है। इस समस्या से इंसान को मानसिक रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। रीढ़ की समस्याओं की कई वजहें होती हैं और इसे रोक पाने में कई तत्व अपनी भूमिका का निर्वाह करते हैं।जो इस तरह के दर्द का कारण बनते हैं, लेकिन रीढ़ की हड्डी का ट्यूमर बेहद जटिलता पैदा कर सकता है। रीढ़ के किसी भी हिस्से में हुई गांठ वैसे तो कोशिकाओं और ऊतकों का एक समूह होता है जो दिमाग से सीधा संबंध वाली तरंगों के वेग को रोकने का काम करता है। इस समस्या से इंसान को मानसिक रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। रीढ़ की समस्याओं की कई वजहें होती हैं और इसे रोक पाने में कई तत्व अपनी भूमिका का निर्वाह करते हैं।Spine Disorders

Spine Disorders Symptoms And Treatment

स्पाइनल डिसऑर्डर से होने वाली समस्याएं जैसे –

सुन्नपन या झुनझुनी का अहसास होना 

गर्दन, पीठ, कमर में दर्द और जकड़न 

लिखने में समस्या         

भोजन करने में समस्या 

चलने में कठिनाई होना 

गंभीर मामलों में मल मूत्र संबंधी समस्याएं उत्पन्न होना 

यह सभी स्पाइनल डिसऑर्डर से होने वाले मुख्या लक्षण हैं !

Solve Burning Problems

Spine Disorders 

रीढ़ की हड्डी में होने वाले दर्द से बचाव के उपाय 

नियमित रूप से व्यायाम करें 

अगर देर तक गाड़ी चलाते हैं, तो ऐसी स्थिति में पीठ को सहारा देने के लिए तकिया लगाएं। 

कुर्सी पर हमेशा सीधे अपनी पीठ सटा कर बैठें 

कंप्यूटर पर काम करते समय आगे की तरफ झुकने की जगह अपने कंप्यूटर के मॉनिटर को सीधा रखें 

अगर कंप्यूटर पर देर तक काम करते हैं तो थोड़ी-थोड़ी देर में कुर्सी से उठते रहें, ताकि पीठ दर्द की समस्या न हो 

स्वास्थ्य से जुडी नयी नयी जानकारी के लिए KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

Spine Disorders Symptoms And Treatment

Spine Disorders

BOOK ONLINE CONSULTATION
Online Ayurvedic Doctor Consultation

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Book Online Consultation
Exit mobile version