Wednesday, February 21, 2024
spot_img
HomeDiseases and TreatmentSYMPTOMS OF HEART DISEASES

SYMPTOMS OF HEART DISEASES

HEALTHY TIPS TO IMPROVE HEART HEALTH

SYMPTOMS OF HEART DISEASES आधुनिक जीवन शैली के अत्यंत दोषपूर्ण होने के कारण, आजकल का मनुष्य अनेक खतरनाकबीमारियों से ग्रसित है, जिसमें एक प्रमुख बीमारी है हृदय रोग; 40- 50 बरसों के बाद इस पितासमस्या का पता चलता है। आज इस Article में हम, हृदय रोग नामक इसी घातक बीमारी के बारे मेंबात करेंगे। जिसके कारण WHO के अनुसार, हृदय रोग विश्व स्तर पर मृत्यु का प्रमुख कारण है, प्रत्येक वर्ष अनुमानित 17मिलियन लोगों की जाने, जाती है। जिनमें एक तिहाई मौतें 70 वर्ष से कम उम्र के लोगों की होती है।और ऐसा होने का कारण है हृदय को रक्त पहुंचाने वाली, arteries का सिकुड़ जाना जिससे हृदय कोपर्याप्त मात्रा में oxygen supply नहीं मिल पाती है। इसको आम भाषा में Blockage, और Medical language में AGNIA कहते हैं।

आइए अब जानते है हृदय रोग के लक्षणों के बारे में

जिसमें सबसे पहला है – Chest pain  दूसरा है – सांस फूलना और तीसरा है– छाती में तेज़ चुभनेवाला दर्द, भारीपन और घबराहट

अब बात करते हैं एक-एक करके तीनों के बारे में: Chest pain Chest pain यानी सीने में दर्द होना हृदय रोग का प्रमुख लक्षण है। Chest के left side से दर्दउभर कर, left hand में फैलते हुए, गर्दन तक चला जाता है। Problem in breathing.

Ayurvedic Treatment of Glaucoma in hindi

SYMPTOMS OF HEART DISEASES

Online Ayurvedic Consultation
SYMPTOMS OF HEART DISEASES

Online Ayurvedic Doctor Consultation

सांस फूलना भी हृदय रोग का प्रमुख लक्षण है। ज्यादा मेहनत भरा काम करने के बाद सांस फूलना आम है, लेकिन किसी प्रकार की मेहनत किए बिना, अगर आपकी सांस फूलती है, तो यह हृदय रोग का लक्षण हो सकता है।

 Anxiety

Online Ayurvedic Consultation
SYMPTOMS OF HEART DISEASES

अगर आपको छाती में तेज चुभनेवाला दर्द, भारीपन, घबराहट या किसी प्रकार का दबाव महसूस हो रहा है तो यह हृदय रोग का लक्षण हो सकता है। यह तो बात रही heart health से related Problems की, अब बात करते हैं इन Problems के Solution की।

Control blood pressure and cholesterol levels. हृदय के healthy functioning के लिए ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखना बेहद जरूरी है। हाई ब्लड प्रेशर और उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर आपके हृदय की बीमारियों के जोखिम को बढ़ा सकता है। रोज़ाना blood pressure की जाँच करवाते रहें और जरूरत पड़ने पर cholesterol Test भी करवाएं।

Workout एक study के अनुसार लंबे समय तक बैठे रहना हृदय रोग, टाइप 2 डायबिटीज और कैंसर सहित अनेक Chronic health conditions से जुड़ा है। इसलिए नियमित रूप से व्यायाम करना शुरू करें। हृदय के स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिए कुछ शारीरिक गतिविधियाँ जिन्हें आप चुन सकते हैं जैसे टहलना, दौडना इत्यादि।

Heart Healthy Diet

Trans fat foods खानें से हृदय रोग होने की सम्भावना बढ़ जाती है। ये फैट body में LDL के लेवल को बढ़ाता है और HDL के लेवल को कम करता है। इसलिए स्वस्थ हृदय के लिए आप आहार में फल, सब्जियां, होल ग्रेन और फाइबर युक्त फूड्स शामिल करें।

Online Ayurvedic Consultation
SYMPTOMS OF HEART DISEASES

अधिक वजन होना हृदय रोग का सबसे बड़ा कारण माना जाता है। आपका weight, healthy weight है या नहीं इस के लिए आपको BMI टेस्ट करवाना चाहिए। BMI टेस्ट आपको healthy weight maintain करने में मदद करेगा। मोटापे के कारण हृदय की समस्याएं अधिक होती हैं और इनसे बचने के लिए healthy diet और exercise करना चाहिए।

Avoid Alcohol Consumption and Smoking:

अधिक धूम्रपान और शराब पीने से आपके हृदय पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इस से stroke और congestive heart failure होने का खतरा बढ़ाता है। इसलिए हमें धूम्रपान और शराब के सेवन से बचना चाहिए।

स्वास्थ्य से जुडी नयी नयी जानकारी के लिए KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

BOOK ONLINE CONSULTATION
Online Ayurvedic Doctor Consultation

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Book Online Consultation