Wednesday, February 21, 2024
spot_img
HomeFemale DiseasesThe Truth About Hysterectomy

The Truth About Hysterectomy

The Truth About Hysterectomy

The Truth About Hysterectomy क्या आपको आपके डॉक्टर ने Uterus यानी बच्चेदानी को निकलवाने की सलाह दी है ?अगर हां तो ठहरिये। जानिए और समझिये क्या आपके लिए uterus निकलवाना जरुरी है भी की नहीं।

आज इस Article में आपको बच्चेदानी को निकालने के पीछे की वजह, इसके निकलवाने के Side Effects और Uterus निकालने के स्थान पर आयुर्वेदिक चिकित्सा के जरिये इसके उपचार के बारे में बताउंगी। इसलिए Article के साथ अंत तक जुड़े रहिये।

यूट्रस महिला के शरीर का वो अंग है, जिसमें प्रेगनेंसी के दौरान बच्चा पलता-बढ़ता है। यह ब्लेडर और पेल्विक एरिया की muscles को भी सपोर्ट करता है।

How to Treat Oily Hair Naturally

Top 10 major surgeries में uterus removal यानी hysterectomy 6th नंबर पर अपनी जगह बना चूका है। यानी जितनी भी surgeries किसी न किसी वजह से होती है। उनमे hysterectomy छटी सबसे बड़ी वजह है। और महिलाओं में surgery होने की दूसरी सबसे बड़ी वजह है।

Online Ayurvedic Consultation
The Truth About Hysterectomy

बहुत से cases हमे ऐसे देखने को मिलते है जिसमे uterus remove करने की सलाह दी जाती है। तो आईये सबसे पहले जानते है uterus removal के पीछे की वजह को।

अधिक दिन तक या अधिक मात्रा में होने वाली vaginal bleeding uterus removal का सबसे बड़ा रीज़न माना जाता है क्यूंकि हैवी bleeding से परेशान होने पर सामान्यतः महिलाओं को surgery suggest की जाती है। इस heavy bleeding के Piche बहुत से कारण होते है। जैसे anxiety, reproductive organ का chronic inflammation, uterus को blood vessels में active या passive congestion यानि menorrhagia.  इसके अलावा ovarian cancer, uterine cancer, गर्भाशय के मुँह का कैंसर, Endometriosis, fibroids, pelvic pain, adenomyosis, prolapse of uterus, dysfunctional uterine bleeding भी uterus removal का कारण बन सकते है। 

आयुर्वेदिक ग्रंथ चरक चिकित्सा 30 / 204-209 के अनुसार अत्यधिक खट्टे, नमकीन, पचने में भारी, तीखे, जलन पैदा करने वाले व ज्यादा स्नेहयुक्त द्रव्य, खिचड़ी, खीर, दही, सिरका, दही का पानी, शराब, मांसादि का ज्यादा सेवन यानी पित्तवर्धक व रक्तदूषित करने वाले आहार heavy bleeding के पीछे की मुख्य वजह हैं। माधव निदान में इसका कारण विरुद्ध भोजन यानि incompatible food combinations, अजीर्ण यानी indigestion, अतिमैथुन यानी more indulgence in sex, ज्यादा पैदल चलना या ज्यादा देर लगातार travelling, grief, भारी वजन उठाना, चोट, दिन में ज्यादा सोना बताया गया है।  

Online Ayurvedic Consultation
The Truth About Hysterectomy

अब Uterus Removal के side effects के बारे में बात करें तो सबसे बड़ा side effect इसका रहता है early menopause. इसके अलावा bone weakness, osteoporosis, early onset of heart attack, memory loss, early onset of old age, pain during intercourse, loss of skin and texture, loss of femininity जैसे साइड इफेक्ट्स भी देखने को मिलते है।

BBC world service की एक रिपोर्ट के अनुसार 40 साल से कम उम्र की महिलाओं को बहुत बड़ी संख्या में बेवजह uterus remove कराने को कहा जाता है जबकि अपने lifestyle व eating habits को थोड़ा चेंज करके और अपने hormones को balance करके इससे बचा भी जा सकता है। 

QUOTES (FROM BOOK)

आयुर्वेद के अनुसार इसकी मुख्य चिकित्सा में पित्तशामक आहार विहार, मन को शांत रखने वाला वातावरण व बातें , व्यवस्थित दिनचर्या, healthy lifestyle शामिल है। इसके साथ ही रक्त स्थापन चिकित्सा, वस्ति चिकित्सा, विरेचन चिकित्सा का भी आयुर्वेदिक ग्रंथों में वर्णन है। औषध द्रव्यों की बात करें तो इसमें रसांजन, गुडुची बलामूल, अशोक की छाल, पुष्यानुग चूर्ण, खंडकुष्मांड अवलेह आदि का प्रयोग किसी experienced आयुर्वेदचार्य के निरिक्षण में प्रभावी है। self medication आपकी समस्या को बद से बदतर बना सकता है इसलिए किसी चिकिसक से consult जरूर करें।  

Uterus removal आपकी समस्या का सम्पूर्ण समाधान नहीं है। इसलिए इसे operate कराने से पहले एक बार किसी विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें। अपनी किसी भी स्वास्थय संबंधी समस्या के समाधान के लिए www.kapeefit.com पर अपना online consultation book कर सकते है

स्वास्थ्य से जुडी नयी नयी जानकारी के लिए KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

BOOK ONLINE CONSULTATION
Online Ayurvedic Doctor Consultation

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Book Online Consultation