Wednesday, February 21, 2024
spot_img
HomeFemale DiseasesEffective Treatment for Infertility in Women | इन उपायों से करें बांझपन...

Effective Treatment for Infertility in Women | इन उपायों से करें बांझपन का उपचार

Treatment for Infertility in Women in Hindi | बांझपन का उपचार

महिलाओं के लिए माँ बनना सबसे खूबसूरत एहसास माना जाता है लेकिन आजकल की अनियमित जीवनशैली या फिर किसी प्रकार की स्वास्थय सम्बन्धी समस्याओं के कारण महिलाएं बाँझपन यानी इनफर्टिलिटी की समस्या की ग्रसित हो जाती हैं । आज इस आर्टिकल में हम आपको infertility से सम्बंधित आयुर्वेदिक उपचार के बारे में बताएंगे , इसलिए आर्टिकल के साथ अंत तक जुड़े रहें।

WHO की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में बांझपन से ग्रसित महिलाओं की संख्या 9 % से 16.5 % के बीच है। भारतीय राज्यों में बाँझपन की स्थिति हर राज्य में अलग है जैसे उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र में 3.7 %, आंध्र प्रदेश में 5 % और कश्मीर में 15 % महिलाएं इनफर्टिलिटी से ग्रसित हैं।

इनफर्टिलिटी MALES और FEMALES दोनों में देखने को मिलती है। लेकिन आज हम आपको FEMALES में होने वाली इनफर्टिलिटी के ट्रीटमेंट के बारे में बताएंगे। तो आईये सबसे पहले जाने कि इनफर्टिलिटी क्या है ?

इनफर्टिलिटी वो CONDITION होती है जिसमे महिलाएं 12 महीने या 6 महीने तक नियमित रूप से कोशिश करने के बाद भी CONCEIVE नहीं कर पाती है या प्रेगनेंट नहीं हो पाती हैं। अगर आम भाषा में समझना चाहें तो किसी महिला की उम्र अगर 30 साल है और वो 12 महीने तक कंसीव नहीं कर पा रही है। और अगर कोई महिला 35 साल की है और वो 6 महीने के समय के बाद कंसीव नहीं कर पा रही है या फिर प्रेगनेंट नहीं हो पा रही है तो उस महिला को तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।

Age Factor

Treatment for Infertility in Women
Age factor for Infertility in Women

INFERTILITY की PROBLEM में AGE FACTOR बहुत इम्पोर्टेन्ट ROLE PLAY करता है। महिला के गर्भ धारण करने और स्वस्थ बच्चा पैदा करने की संभावना को उसकी उम्र प्रभावित कर सकती है। एक महिला की CONCEIVING POWER  उसके 30s की शुरुआत में कम होने लगती है, और 35 साल की उम्र के बाद और ये खत्म होने लगती है । age ज्यादा होने पर pregnancy में complications बढ़ जाते है।

Structure abnormality in Female Reproductive System

Treatment for Infertility in Women
Treatment for Infertility in Women

महिलाओं के प्रजनन तंत्र की बनावट में किसी प्रकार की कमी होने से इनफर्टिलिटी की समस्या होने के CHANCES होते है। जैसे – CERVIX , VAGINA , UTERUS , FALLOPIEN TUBE के STRUCTURE में किसी प्रकार की कमी होना।

Hormonals Imbalance

अगर शरीर में NORMAL HARMONE LEVEL न हो तो हार्मोनल IMBALANCE की CONDITION पैदा हो जाती है जिसके कारण इनफर्टिलिटी के CHANCES बढ़ जाते है। PCOS , इनफर्टिलिटी का सबसे COMMON REASON देखा जाता है। PCOS से पीड़ित महिलाओं में, हार्मोनल IMBALANCE के कारण ओव्यूलेशन से अंडे के विकास और रिलीज में रूकावट आती है। और अगर कोई महिला ओव्यूलेट नहीं करती हैं, तो वो PREGNANT  नहीं हो सकती है। इसके साथ साथ IRREGULAR PERIODS , डायबिटीज , THYROID DISORDER , IMPROPER DIET ,QUALITY OF OVUM , IMPROPER OVULATION , BLOCKAGE IN FALLOPIAN TUBE भी इनफर्टिलिटी के कारण हो सकते हैं।

Ayurvedic Remedies

वैसे तो इनफर्टिलिटी को लेकर मेडिकल SCIENCE में सर्जरी का ऑप्शन होता है लेकिन इसे हम आयुर्वेदिक औषधियों के माध्यम से भी CURE कर सकते है। इसके लिए हम आपको 2 आयुर्वेदिक उपचार के बारे में बताएंगे।

2 Best Ayurvedic Remedies for Infertility in Women

  • 100 ग्राम शिवलिंगी बीज को 200 ग्राम पुत्रजीवक बीज के साथ मिलाकर इसका POWDER बना लें। फिर इस पाउडर का 2 ग्राम सुबह शाम खाली पेट गाय के दूध  के साथ सेवन करें। इसके साथ में 1 टेबल स्पून PHAL घृत को सुबह शाम भोजन के 1 घंटे बाद गाय के दूध के साथ लें। 
  • त्रिकटु चूर्ण और नागकेसर चूर्ण को समान मात्रा में मिला लें। और इस मिश्रण का 2 ग्राम सुबह शाम गाय के दूध के साथ पीरियड के पहले दिन से 10 दिन तक लगातार सेवन करें।

Main Reason for Infertility in Women

इनफर्टिलिटी का प्रमुख कारण fallopian tube में blockage देखा जाता है और इस condition में ये आयुर्वेदिक combination रामबाण सिद्ध होता है। इसके लिए 30 ग्राम काले तिल का पाउडर , 50 ग्राम गाजर के बीज का पाउडर , 50 ग्राम सौंठ पाउडर और 25 ग्राम अजवाइन पाउडर लें। इन सभी पाउडर को लेकर मिक्स कर लें और इसकी 60 DOSE बना लें। उसके बाद 1-1 DOSE सुबह शाम भोजन से 1 घंटा पहले शहद के साथ लें।

Consult Doctor Online
https://kapeefit.com/Consult Doctor Online

इनफर्टिलिटी की समस्या से बचने के लिए के लिए आयुर्वेदिक उपचार के साथ साथ कुछ बातों का ध्यान रखना भी बेहद जरुरी है। जैसे –

Best Ayurvedic Remedies for Treatment of Infertility in Women

  1. नुट्रिएंट्स और फाइबर से भरपूर भोजन का सेवन करना चाहिए। 
  2. योग और प्राणायाम को अपने Daily Routine में शामिल करें। 
  3. तनाव से दूर रहें। 
  4. अगर आपका वजन अधिक है तो आपको अपना वजन कम करने का प्रयास करना चाहिए।
  5. Preservative food item, Caffine और Non-Veg का सेवन न करें।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको इनफर्टिलिटी से सम्बंधित जानकारी अच्छी लगी होगी अगर आपका कोई सवाल रह गया हो तो आप comment box में पूछ सकते हैं या DESCRIPTION BOX में दिए गए नंबर पर आप हमसे संपर्क कर सकते हैं। इसी तरह की उपयोगी जानकारियों के लिए Kapeefit हेल्थ ब्लॉग के साथ जुड़े रहें ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Book Online Consultation