Thursday, February 29, 2024
spot_img
HomeFemale DiseasesURINARY TRACT INFECTION IN WOMEN

URINARY TRACT INFECTION IN WOMEN

5 Preventional tips to cure Urinary Tract Infection in females.

URINARY TRACT INFECTION IN WOMEN

अगर ये सभी लक्षण आपको महसूस हो रहे हैं तो आप UTI यानी URINARY TRACT INFECTION से पीड़ित हो सकते हैं। आज इस Article में हम आपको UTI के COMMON CAUSES , SYMPTOMS और इससे बचने के लिए 5 PREVENTIONAL TIPS के बारे में बताएंगे इसलिए Article के साथ बने रहिये।Urinary Tract Infections : Causes Symptoms And Treatment

URINARY TRACT INFECTION पुरुषों , महिलाओं और बच्चों , सभी में देखने को मिलता है लेकिन महिलाओं में ये समस्या सबसे ज्यादा देखी जाती है। 

NCBI की एक REPORT  के अनुसार UTI महिलाओं में सबसे अधिक बार होने वाले ​​​​BACTERIAL INFECTION  में से एक है, जो सभी INFECTIONS का लगभग 25% है। लगभग 50-60% महिलाओं को अपने जीवनकाल में यूटीआई का अनुभव होता है।

इसमें बैक्टीरिया , URINARY TRACT को INFECTED कर देते हैं। कभी कभी यह INFECTION , FUNGUS या VIRUS के द्वारा भी हो सकता है। 

URINARY TRACT INFECTION IN WOMEN

यह इन्फेक्शन KIDNEY , URETERS (किडनी से निकलने वाली नलिकाएं ) , URINARY BLADDER और URETHRA ( मूत्रमार्ग ) किसी में भी हो सकता है।

CAUSES OF UTI

अब देखते हैं कि इसके CAUSE क्या है और क्यों ये FEMALE में ज्यादा देखने को मिलता है। 

  • कम मात्रा में पानी पीना , इसका बहुत बड़ा कारण है। 
  • कुछ बीमारियों जैसे डायबिटीज , किडनी स्टोन , STD 
  •  URINARY CATHETER के बार बार प्रयोग से । 

FEMALE में UTI ज्यादा देखने को मिलता है क्यूंकि 

  • COMMON WESTERN WASHROOM का USE 
  • 6 से 7 घंटे तक URINE को रोक कर रखना। 
  • UNHYGENIC HABITS के कारण 
  • प्रेगनेंसी के दौरान 
  • MENSTURAL CYCLE में TAMPONS USE करने के कारण से UTI होने के CHANCES होते है। 

यदि आयुर्वेद की दृष्टि से देखा जाये तो शरीर में पित्त दोष के बढ़ने से और URINE को बहुत देर तक रोक कर रखने से UTI होने के CHANCES होते हैं। 

SYMPTOMS OF UTI

Online Ayurvedic Consultation

UTI में क्या क्या परेशानी रोगी को हो सकती है या कौन कौन से SYMPTOMS रोगी में देखने को मिलते हैं।  यह इस बात पर DEPEND करता है कि INFECTION URINARY TRACT के किस पार्ट में है। सामान्यतः कुछ प्रमुख लक्षण रोगी में देखने को मिलते हैं। 

  • URINE के लिए बार बार जाना। 
  • यूरिन का रुक रुक कर , थोड़ा थोड़ा आना।  
  • URINATION के दौरान BURNING SENSATION या दर्द महसूस होना। 
  • कभी कभी URINE में BLOOD आना 
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द महसूस होना।
  • URINE का CLOUDY होना व FOUL SMELL आना।
  • अगर ये इन्फेक्शन किडनी तक SPREAD हो जाये तो यह एक SERIOUS PROBLEM का रूप ले लेता है और इस CASE में हाई फीवर , VOMITING और कपकपी महसूस होना जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं।
  • इसलिए अगर आपको इस INFECTION के लक्षण महसूस हो तो आपको जल्दी से जल्दी अपने DOCTOR से CONSULT करना चाहिए। 

REMEDIES TO CURE UTI

Online Ayurvedic Consultation
URINARY TRACT INFECTION IN WOMEN

UTI से बचाव के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा से अति शीघ्र  लाभ मिलता है , आयुर्वेदिक औषधियों द्वारा UTI के कारण को दूर कर , इसे जड़ से समाप्त किया जा सकता है। फलस्वरूप रोगी पूर्ण रूप से ठीक हो जाता है और UTI के RE-CCURENCE के CHANCES भी नहीं होते हैं। 

औषधियों  के साथ अगर कुछ HEALTHY HABITS  को अपनी डेली लाइफ में FOLLOW कर लिया जाये तो UTI से काफी हद तक बचा जा सकता है। 

  • पर्याप्त मात्रा में पानी पियें।कम से कम 8 से 10 ग्लास पानी रोज़ लें। पानी बैक्टीरिया को शीघ्र ही शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है।
  • CRANBERRY जूस का डेली सेवन करें। 
  • अपनी DIET में विटामिन C का INTAKE बढ़ाएं। PRO BIOTICS का सेवन करें। 
  • लहसुन को अपनी डाइट का हिस्सा बनाएं। 
  • ग्रीन टी का सेवन करें। 
  • अपनी इम्युनिटी को स्ट्रांग रखें।
  • अगर आप डायबिटिक हैं तो ब्लड शुगर लेवल को बैलेंस रखें। 

UTI पुरुषों की तुलना में महिलाओं में 8:1 के अनुपात में देखने को मिलता है। अतः महिलाओं में यह एक गंभीर बीमारी को रूप ले लेता है अब आगे हम आपको इससे बचने के PREVENTIVE TIPS के बारे में बताएंगे।

UTI से बचने के लिए आपको कुछ PREVENTIVE और HYGENIC TIPS को FOLLOW करना चाहिए। जैसे 

  • जहाँ तक हो सके INDIAN STYLE WASHROOM का प्रयोग करें। 
  • अपने VAGINAL AREA को CLEAN और DRY रखें और VAGINA को CLEAN करने के लिए FRONT TO BACK METHOD USE करें। COTTON UNDERGARMENTS का प्रयोग करें। PERIODS के दौरान SANITARY PADS का ही USE करें। 
  • INTERCOURSE के बाद तुरंत URINATE करें और अपने आप को CLEAN करें।
  • INTIMATE AREAS पर SCENTED PRODUCTS का USE AVOID करें।
  • पित्त वर्धक आहार जैसे मसालेदार एवं तैलीय पदार्थ , चाय कॉफ़ी , शराब , मांसाहार आदि के सेवन से बचें।

ये सभी remedies और preventional tips आपको UTI से PROTECT करने में मदद करेंगे। अगर आपका कोई सवाल हो तो आप comment बॉक्स में पूछ सकते हैं

अपना ख्याल रखिये और KAPEEFIT के साथ जुड़े रहिये।

BOOK ONLINE CONSULTATION
Online Ayurvedic Doctor Consultation

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Book Online Consultation